वीरान

shayari

सालों से वीरान पड़ा था…
तेरी इक हसी से आबाद हो गया हूँ मैं !!

signature

Advertisements