आज कुछ तो ख़ास है…

आज…..
एक अरसे बाद
दिल के आईने में एक तस्वीर उभरी
सर्दियों की धुप जैसी
गुनगुनी, उजली उजली
बर्शिश की बोछार जैसी
बूंद बूंद जिस्म को छूती हुई

आज……
एक अरसे बाद हमने
दिल की देहलीज़ पर
चाहत की दस्तक सुनी
छोटे बचे की किलकारियों जैसी
खिलखिलाती , नयी नयी
दुल्हन की चूड़ियों की खनक जैसी
चमकदार , खनखनाती हुई

आज……
एक अरसे बाद आज
दिल के तसवुर में
एक ग़ज़ल आई है
ग़ालिब के कलाम जैसी
घेहरी , लफ्ज़ दर लफ्ज़ दिल में उतरती
मीर के ख्याल जैसी
दिलकश, दर्द को आईना दिखाती हुई

आज कुछ तो ख़ास है…

signature

Advertisements

13 thoughts on “आज कुछ तो ख़ास है…

  1. wah wah..
    jajbaato ko kya khoob juban di hein-
    सर्दियों की धुप जैसी
    गुनगुनी, उजली उजली…
    is nazm ne insa allah sardiya khas kar di hein.
    thanx for sharing..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s