ख़ाक…!!!

 

 

 

 

 

 

 

वो अदा भी खूब थी , कतल कर के चले जाने की…!
खुद रूठ जाना जब करना कोशिश हमे मनाने की…!!

वो बारिश में पहले भीघ जाना बेवजह …!
फिर आ कर के बाम पे दिखाने अदाएं बाल सुखाने की…!!

जब गुजरना गली से तो इक बार भी न देखना …!
हर मुमकिन कोशिश करना ज़माने को बहलाने की…!!

रातों को अक्सर जाग कर , करना मेरी बातो को याद…!
और जब मिलना मुझसे तो करना ज़िद जल्दी जाने की …!!

कर कर के तेरा ज़िक्र अपने ही अक्स क साथ …!
ख़ाक कर डाली हर कोशिश तुझे भुलाने की …!!

Advertisements

8 thoughts on “ख़ाक…!!!

  1. thnxx GC… look like u have not checked all my posts yet….check them all …thn u will come to know ….my genre is poetry…not one genre in poetry.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s